19 November 2016

रूक ना तू, बस चलता जा

रूक ना तू, बस चलता जा
उठा कदम और बढता जा ।।

काहे खुद से भागे, जा बेफिक्र आगे
ना सोना तु पिछे, वहाँ तो सुरज भी जागे ।।

हो खुद पर यकीन, तब सब मुमकिन
छोड़ कदमों की जमीन, देख दुनिया रंगीन ।।

चाहे करे सब सौ अर्ज़ी, जी ले अपनी मर्ज़ी
ना कर गिनती, गुज़र जायेगी ज़िंदगी फ़र्ज़ी ।।

ढूंढेगा जो बाहर, हाथ आएगा अँधेरा
दिल जांखले अपना, फिर हर और सबेरा ।।

15 November 2016

Start Running...

Running starts with a reason,
but don’t stop with a season…
Some runs to burn, and some just for fun,
beast does not care if it’s dusk or dawn…
Measure loss in calories and profit in cookies,
see in every race you take, you gonna find familiar faces...
Roads look friendly, and trails sound godly,
but to reach there alive, you have to train daily...